कर्म और समय पर शिक्षा चर्चा!

देखिए, यह बेहद महत्वपूर्ण सिद्धांत है, क्योंकि अक्सर यहीं पर ग़लतफ़हमी का अंदेशा रहता है। कर्मचारी अक्सर महसूस करते हैं कि वे आठ घंटे काम करते हैं, इसलिए उनकी तनख्वाह बढ़नी चाहिए। दूसरी ओर, कंपनी के मालिक सोचते हैं कि इस आदमी ने 5,000 रुपए का काम किया है और इसे 8,000 रुपए तनख्वाह पहले […]

Read More


व्ययाम करने पर शिक्षा चर्चा!

इंसान सोचता तो यह है कि वह अपने लिए जी रहा है, लेकिन वह जिस तरह समय ख़र्च करता है, उससे यह लगता ही नहीं है कि वह अपने लिए जी रहा है। अक्सर वह ऐसी नौकरी करता है, जिसमें उसे मज़ा नहीं आता है। अक्सर वह ऐसा खाना खाता है, जो उसकी पत्नी या […]

Read More


सुबह जल्दी उठाने पर शीक्षा चर्चा!

जल्दी सोता है, जल्दी उठता है, उसके पास स्वास्थ्य, पैसा और बुद्धि रहती है।’ इस कहावत को आज के युग में जितना नज़रअंदाज़ किया गया है, उतना किसी दूसरी कहावत को नहीं किया गया। यह बात मैं अनुभव से जानता हूँ। कभी मैं भी रात को 2-3 बजे सोकर सुबह 8-9 बजे उठता था और […]

Read More


बुरी लतों से बचने पर शिक्षा चर्चा!

यहाँ हम शराब और सिगरेट के गुण-दोषों पर बातचीत नहीं करेंगे, क्योंकि यह स्वास्थ्य का विषय है। हम तो उनका विश्लेषण समय के संदर्भ में करेंगे। शराब और सिगरेट आपके शरीर के लिए तो घातक हैं ही, आपके समय के लिए भी कम घातक नहीं हैं। अनुमान है कि युवा वर्ग एक सिगरेट पीने में […]

Read More


समय के पर शिक्षा चर्चा!

सापेक्षता का नियम समय के संदर्भ में भी बहुत महत्वपूर्ण है। समय वही रहता है, बस हमारा नज़रिया बदल जाता है। आपने प्रायः देखा होगा, बच्चे जब वीडियो गेम खेलते हैं, तो उन्हें भूख-प्यास का एहसास ही नहीं होता, उन्हें पता ही नहीं चलता कि कब दो घंटे गुज़र गए। दूसरी ओर, जब बच्चे पढ़ते […]

Read More


समय खरीदने पर शिक्षा चर्चा!

आपके लिए कौन सी चीज़ ज़्यादा महत्वपूर्ण है : समय या धन ? आप इन दोनों में से किसे बचाने की ज़्यादा कोशिश करते हैं ? आप पैसेंजर ट्रेन से यात्रा करना पसंद करते हैं या सुपरफ़ास्ट ट्रेन से ? देखिए, रिटायर्ड लोग पैसेंजर ट्रेन को ज़्यादा पसंद करते हैं, क्योंकि उसमें किराया कम लगता […]

Read More


लक्ष्य के लिए त्याग पर शिक्षा चर्चा

समय के मामले में हम सभी के पास विकल्प होता है। हम चाहें, तो इसका दुरुपयोग कर सकते हैं। हम चाहें, तो इसका सदुपयोग कर सकते हैं। हम चाहें, तो वर्तमान पल को मौज-मस्ती में बर्बाद कर सकते हैं। हम चाहें, तो वर्तमान पल को सुनहरे भविष्य की सीढ़ी बना सकते हैं। हम चाहें, तो […]

Read More